Women empowerment in hindi

 नारी सशक्तिकरण (Women empowerment in hindi)

Women empowerment in hindi

21वी सदी तीव्र सामाजिक सांस्कृतिक और आर्थिक परिवर्तनों का उपहार लेकर आई है सूचना प्रौद्योगिकी में हुई क्रांति ने भी सबको भूमंडलीकृत ग्राम विश्व के किसी भी कोने में जब जो घटित होता है उसे उसी क्षण पूरे विश्व को दिखाना संभव हो गया है आज सूचनाओं का आदान-प्रदान ईमेल इंटरनेट आदि के माध्यम से पवन गति से हो रहा है चलित फोन ने आज लोगों को निकट लाने में महत्वपूर्ण योगदान दिया है ग्रहण के माध्यम से दूरदर्शन पर अनेक चैनलों से कार्यक्रम प्रसारित होने लगे हैं विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से विश्व संस्कृति हमारे घरों में प्रवेश पा रही है आज भी टेंशन इसके अतिरिक्त आ रही हैं संस्कृतियों का संभव है कि वह एक दूसरे को प्रभावित करते हैं और नदियों की तरह एक दूसरे के समानांतर नहीं बहती रह सकती जो संस्कृत में आपकी श्रेष्ठ उपलब्धियों को प्रचारित नहीं कर पाएंगे उनका संरक्षण वही कर उनके विलुप्त हो जाने का खतरा आज सबसे अधिक है संस्कृतियों के साथ-साथ आज विश्व के अनेक अर्थ व्यवस्था है एक दूसरे से टकरा रही हैं सोवियत रूस के गुटके विघटन के पश्चात समाजवादी  साम्यवादी व्यवस्था ध्वस्त हो गई यूरोप और अमेरिका समर्थित पूंजीवादी अर्थव्यवस्था पूरे विश्व को नियंत्रित करना चाहती है पूरा विश्व विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्था में बैठ गया है तीव्र आर्थिक परिवर्तनों के कारण हमारा समाज भी प्रभावित हो रहा है  भोग वादी उपभोग वादी संस्कृति विकसित होती जा रही है ऐसी स्थिति में हम सब पर नए दायित्व आए हैं भारतीय नारी वर्तमान में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकती है


 हमारा योग सांस्कृतिक प्रधान और संघर्ष का योग है भारतीय नारी सदस्य उच्चतर सांस्कृतिक मूल्यों की बात रही है दया क्षमा विनय अहिंसा श्रद्धा सेवा त्याग जैसे मूल्यों के प्रभाव का अंग रहे हैं भारतीय संस्कृति के श्रेष्ठ जो नारी ने ही बचाया है भारतीय परंपरा में जो कुछ भी श्रेष्ठ है सत्य सुंदर है लक्ष्मी या है उसका  आधार नारी रही है  नारी ही  दानव निवास के लिए दुर्गा शक्ति बनती आई है वही अज्ञान के अंधकार को मिटाने वाली सरस्वती है तथा दीनता निर्धनता को हरने वाली लक्ष्मी है सीमा सावित्री श्री अनुसूया जीजाबाई लक्ष्मी बाई अनेक रूपों में भारत नारी ने भारतीय संस्कृति की रक्षा की है आज पश्चिमी संस्कृति के से भारतीय समाज की रक्षा नारी ही कर सकती है विभिन्न प्रकार एवं मनोरंजन माध्यम से विकृत पश्चिमी संस्कृति का बाद प्रवेश हमारे घरों में हो रहा है भद्दे और अश्लील नृत्य उगाने लज्जा जनक

Himachal Pradesh GK

वेशभूषा भोगवती जीवन शैली का प्रचार कार्यक्रमों और अन्य  प्रचार माध्यमों से हो रहा है भारतीय नारी अपने स्वास्थ्य की दृष्टि से परिवार को रास्ता आती है अपनी संतान के मन में सब के प्रति व्यक्ति और विरोध का भाव उत्पन्न कर सकती है आज आवश्यक है कि भारतीय नारी अपनी संस्कृति की रक्षा के लिए अपने परिवारिक परिवेश को बचाएं


भारतीय संस्कृति ने सिखाया है कि सुख वस्तुओं में नहीं मन को साधने में है सुख भोग में नहीं स्वयं और संतोष में है भारतीय नारी सदस्य स्वयं और त्याग का आदर्श नाती आई है उसे संतुलित जीवन दृष्टि अपनाने की आवश्यकता है धन से बिस्तर खरीदा जा सकता है आज पश्चिम की संस्कृति में भ्रष्टाचार अश्लीलता और फैशन परस्ती का वातावरण पैदा कर दिया भारतीय नारी शक्ति है


वर्तमान में भारत की समस्याओं को सुलझाने में ना रिपोर्ट सबसे बड़ी समस्या है नारी परिवार नियोजन को जयपुर जाने योग दे सकती है नारी की निरक्षरता उसके विकास में बाधक है इसलिए नारी को शिक्षा पर अधिक ध्यान देना होगा भारत के नारे निरीक्षक होकर ही  सुसंस्कृत है भारतीय नारी शिक्षित हो यह भावी पीढ़ी को साक्षर बनाने के लिए भी अवश्य भारतीय नारी यदि फैशन की होड़ में ना पड़े और स्वयं को जीवन का आधार बनाएं तो अंतर्देशीय व्यापारिक निगम भारत खोलो लगेगा नारी सशक्तिकरण संवैधानिक प्रावधानों से ही बहुत है परंतु नारी को अपने गुणों का विकास करके अपने को निरंतर सशक्त होगा नारी आदर्श गृहिणी बनकर भी परिवार के हितों की रक्षा कर सकती है परिवार का स्वास्थ्य पर बनाने वाले भोजन पर भी निर्भर करता है बच्चे पश्चिम के जनक खराब है इसके लिए जरूरी है कि घर  मैं अपने वर्तमान समय में भारतीय नारी अपने को शिक्षित संस्कृत चाय तो यह समाज का अधिक उपयोगी बना सकेगी 


Previous
Next Post »