Indian Political Current Affairs

 Indian Political Current Affairs


एक दलीय प्रभुत्व क्या है


एक दलीय प्रभुत्व प्रणाली का अर्थ यह है कि एक शासन व्यवस्था में अन्य दलों के अस्तित्व के बावजूद भी केवल एक दल का ही प्रभाव हो उदाहरण के लिए संविधान द्वारा भारत में यद्यपि बहुदलीय व्यवस्था की स्थापना की गई थी GK Today परंतु भारत में इतने अधिक दलों के अस्तित्व के बावजूद एक दल भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की प्रधानता स्थापित हो गई


कांग्रेस पार्टी के जन्म का वर्णन करें


Indian political current affairs
www.hpcurrentaffairstoday.in

भारत में दलीय व्यवस्था का आरंभ 19वीं शताब्दी के उत्तरार्ध में हुआ था भारत में एक राजनीतिक संगठन के रूप में दलीय व्यवस्था का उदय 28 दिसंबर 1885 को भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के उदय से माना जाता है कांग्रेस पार्टी की स्थापना एक अंग्रेजी अधिकारी ए ओ ह्यूम ने की थी इस पार्टी की स्थापना का प्रारंभ उद्देश्य ब्रिटिश सरकार एक भारतीय नेताओं में तालमेल पैदा करना था


क्या आप मानते हैं कि भारत में 1962 तक सुदृढ़ विपक्ष का अभाव था


भारत में 1962 तक सुदृढ़ विपक्ष का आरंभ पाया जाता था प्रथम तीन आम चुनाव तक विपक्षी दलों की स्थिति केवल नाममात्र ही थी इन दलों ने केवल अपनी उपस्थिति दर्ज करवाने के लिए ही चुनाव लड़े थे इन चुनावों में भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी तथा संघ संघ जैसी विपक्षी पार्टियों को जो सीटें प्राप्त हुई उनमें भी अधिक प्रभावशाली विपक्ष की भूमिका नहीं निभा सकती थी


भारतीय साम्यवादी दल के नाम का वर्णन करें


भारतीय साम्यवादी दल की स्थापना 1924 में एम एन राय ने की भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस उस समय भारत के लिए अधिराज्य की स्थिति की मांग कर रही थी परंतु स्थापित इस दल ने पूर्ण स्वतंत्रता की मांग पर बल दिया इस दल का विकास था कि भारत की समस्याओं का भी मार्क्स और लेनिन की विचारधारा के द्वारा ही हल किया जा सकता है


हिंदू महासभा का गठन कब हुआ था


हिंदू महासभा कांग्रेस और मुस्लिम लिग के पश्चात तीसरा सबसे पुराना भारतीय दल है हिंदू महासभा का गठन सन् 1916 में डॉक्टर एंड गोवर के प्रयासों से हुआ था यह दल मुस्लिम लीग के विरोध या प्रतिक्रिया स्वरूप अस्तित्व में आया था और इसका एक मात्र लक्ष्य हिंदू धर्म और संस्कृति की रक्षा और उसका विचार करना था 


डी एम के की स्थापना क्यों हुई थी


1915 में तमिलनाडु में गैर ब्राह्मणों ने द्रविड़ संघ नामक एक संस्था स्थापित की थी यह संस्था जस्टिस नामक समाचार पत्र निकलता था जिसके कारण यह जस्टिस पार्टी के नाम से प्रसिद्ध हो गई 1945 में इस पार्टी के एक नेता ने यह विचार किया कि पार्टी को राष्ट्रवादी दृष्टिकोण अपनाना चाहिए तथा अपना नाम द्रविड़ गम रख लेना चाहिए परंतु पार्टी के कुछ नेताओं को यह स्वीकार ना था इस पर श्री नंदू राय अपने साथियों सहित जस्टिस पार्टी से अलग हो गया तथा उन्होंने द्रविड़ अगम नामक एक अलग दल स्थापित कर लिया


नेशनल कांफ्रेंस का ऐतिहासिक अतीत क्या है


नेशनल कॉन्फ्रेंस जम्मू कश्मीर का सबसे महत्वपूर्ण क्षेत्रीय दल है नेशनल कॉन्फ्रेंस की मूल जड़ 1930 के दशक में वाचनालय दल के रूप में थी 1930 के अंत में इस वाचनालय दल को जम्मू-कश्मीर कॉन्फ्रेंस में बदल दिया गया शेख अब्दुल्ला 1932 में इस दल के अध्यक्ष बने


प्रथम आम चुनाव के समय कितने राष्ट्रीय ऐप राज्य दल मौजूद थे


प्रथम आम चुनावों के समय चुनाव लड़ने वाले या चुनाव आयोग से मान्यता प्राप्त राजनीतिक दलों की संख्या 53 थी जिनमें से 14 राष्ट्रीय राजनीतिक दल और 39 क्षेत्रीय या स्थानीय राजनीतिक दल शामिल थे


किन चार राज्यों में कांग्रेस 1952 में स्पष्ट बहुमत प्राप्त करने में विफल रही थी


कांग्रेस पार्टी 1952 के चुनावों में त्रावणकोर, कोचीन उड़ीसा पेप्सू तथा आंध्र प्रदेश में स्पष्ट बहुमत प्राप्त करने में विफल रही थी


आपका क्या अभिप्राय है क्या आप जानते हैं कि गठबंधन क्या होता है


प्रत्येक क्षेत्र में गठबंधन का अर्थ एकत्र होकर किसी सांझा उद्देश्य की प्राप्ति करना माना जाता है परंतु राजनीतिक क्षेत्र में गठबंधन शब्द का प्रयोग विशेष अर्थों में किया जाता है राजनीतिक क्षेत्र में इसका अर्थ अलग-अलग राजनीतिक दलों द्वारा राजनीतिक शक्ति प्राप्त करने के उद्देश्य से आपसी समझौता करना होता है सोशलिस्ट पार्टी की स्थापना किसने की


  1.  सोशलिस्ट पार्टी की स्थापना सन् 1934 में आचार्य नरेंद्र देव ने की


  1.  भारतीय जनसंघ की स्थापना कब और किसने की


  1.  भारतीय जनसंघ की स्थापना सन् 1951 में डॉक्टर श्याम प्रसाद मुखर्जी ने की थी


  1.  भारत को स्वतंत्रता प्राप्ति के समय किन दो समस्याओं का सामना करना पड़ा


  1.  स्वतंत्रता प्राप्ति के समय भारत को देसी रियासतों को भारत में मिलाने की समस्या का भी सामना करना पड़ रहा था


  1.  मेघालय और गुजरात तीन राज्यों से अलग होकर राज्य बने


  1.  मेघालय असम राज्य से अलग होकर राज्य बना जबकि गुजरात मुंबई प्रेसीडेंसी के अलग होकर राज्य बना


  1. भारत के विभाजन के कोई दो परिणाम लिखें


  1.  भारत के विभाजन के परिणाम स्वरूप लाखों लोग शरणार्थियों का जीवन बिताने के लिए विवश हुए

  2.  भारत के विभाजन स्वरूप हिंदू मुस्लिम दंगे और अधिक भड़क गए



Oldest