हिमाचल प्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व, hp current affairs today

 हिमाचल प्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व

हिमाचल प्रदेश के प्रमुख व्यक्तित्व

पर्वतीय राज्य हिमाचल प्रदेश जिस प्रकार अपने प्राकृतिक सौंदर्य के कारण देश में अपनी पहचान बनाए हुए हैं उसी प्रकार यहां कई महान विभूतियों ने समय-समय पर समाज की विभिन्न प्रवृत्तियों को प्रभावित किया है।

हिमाचल प्रदेश के जिले,हिमाचल प्रदेश का इतिहास,हिमाचल प्रदेश की जनसंख्या कितनी है,हिमाचल प्रदेश की नदियाँ,हिमाचल प्रदेश की वेशभूषा,2019 में हिमाचल प्रदेश की जनसंख्या कितनी है,हिमाचल प्रदेश की जनसंख्या 2020,हिमाचल प्रदेश की सबसे ऊंची चोटी.

ऐतिहासिक व्यक्तित्व

हिमाचल प्रदेश में महत्वपूर्ण ऐतिहासिक व्यक्तित्व का विवरण निम्न है

 

महाराजा संसार चंद

महाराजा संसार चंद कांगड़ा राज्य 1275 से 1823 के मध्य में कटोच वंश के प्रसिद्ध शासक थे उन्हें चित्रकला की विख्यात शैली कांगड़ा शैली को संरक्षण प्रदान करने के लिए जाना जाता है।

संसार चंद को हिमाचल प्रदेश में नहरों के निर्माण के लिए भी याद किया जाता है।

 

जोराबर सिंह कहलुरिया

जोरावर सिंह कहलुरिया का जन्म सत्ता 1786 में बिलासपुर (कहलूर) में हुआ था 1817 ई में उन्होंने महाराजा रणजीत सिंह की सेना में शामिल होने का निर्णय लिया बाद में जोरावर सिंह जम्मू के शासक गुलाब सिंह के सेनानायक नियुक्त हुए शासक ने उनकी वीरता से प्रभावित होकर उन्हें किश्तवाड़ का शासक नियुक्त किया तथा वजीर की उपाधि प्रदान की।

 

स्वतंत्रता सेनानी एवं समाजसेवी

हिमाचल प्रदेश के महत्वपूर्ण स्वतंत्रता सेनानियों एवं समाजसेवी ओं का वर्णन निबंध है

बाबा काशीराम

·        बाबा काशी राम का जन्म 11 जुलाई 1382 को कांगड़ा के डाडाशिवा गांव में हुआ था।

·        लाला हरियाल तथा अजीत सिंह के सनी में उन्होंने युवाओं में देशभक्ति की भावना को प्रोत्साहित किया।

·        बस 1937 में पंडित जवाहरलाल नेहरू ने बाबा काशीराम को पहाड़ी गांधी के नाम से संबोधित किया जिसके बाद यह संबोधन उनका प्रिय उपनाम बन गया।

·        इन्हें सरोजिनी नायडू ने पहाड़ा दा बुलबुल नाम दिया था।

·        भगत सिंह सुखदेव राजगुरु को फांसी मिलने के पश्चात यह आजीवन काले कपड़े धारण करते रहे।

·        पहाड़ी गांधी बाबा काशीराम का निधन 15 अक्टूबर 1943  को हुआ।

भाई विरदा राम

·        28 नवंबर 18 से 50 को भाई हिरदा राम का जन्म मंडी में हुआ था वह गदर पार्टी 1913 के संस्थापक सदस्य रहे।

·        रासबिहारी बोस के संपर्क में आने के बाद उन्होंने क्रांतिकारी गतिविधियों में भाग लिया।

·        भाई हरदा राम ने लाहौर अमृतसर और मंडी को क्रांतिकारी गतिविधियों का केंद्र बना दिया स्वतंत्रता संग्राम में क्रांतिकारियों में भी भाई जी के नाम से प्रसिद्ध थे।

·        21 अगस्त 1965 को इनका निधन हो गया।

भागमल सौठा

·        भाग मल सोंडा का जन्म 23 सितंबर 18 से 99 को हिमाचल के जुब्बल शिमला में हुआ था उन्होंने असहयोग आंदोलन में भाग लिया था वर्ष 1939 में उन्होंने धामी प्रेम प्रचारिणी सभा का गठन किया था 13 जुलाई 1939 को उन्होंने पहाड़ी रियासतों के प्रजामंडल कॉन्फ्रेंस की अध्यक्षता की थी।

·        16 जुलाई 1939 में धामी की राजधानी हाल लॉन्ग में जनसभा के कारण उनकी गिरफ्तारी से धामी गोली कांड हुआ।

यशपाल शर्मा

·        इनका जन्म 3 दिसंबर 1930 को फिरोजपुर छावनी पंजाब पैतृक निवास हमीरपुर में हुआ।

·        यशपाल क्रांतिकारी एवं लेखन थे वर्ष 1928 में लार्ड इरविन के ट्रेन में दम लगाने के षड्यंत्र में शामिल थे 14 वर्ष कारावास में गुजारे वर्ष 1938 में विप्लव पत्रिका का प्रकाशन किया।

दीनानाथ आंधी

इनका जन्म 3 नवंबर 1914 को प्रागपुर गांव जिला कांगड़ा में हुआ था यह स्वतंत्रता संग्राम सेनानी थे सविनय अवज्ञा आंदोलन में शामिल रहे एक जेल गए।

ज्ञानचंद टुटू

इनका जन्म 15 सितंबर 1919 को टुटू शिमला में हुआ था वर्ष 1942 में भारत छोड़ो आंदोलन में शामिल रहे।

लाल चंद प्रार्थी

इनका जन्म 1916 नगर कुल्लू में हुआ था वह स्वतंत्रता सेनानी कवि तथा आलोचक थे कुलूत देश की कहानी इनकी प्रसिद्धि रचना है।

राजनीतिक्ष

हिमाचल प्रदेश के महत्वपूर्ण राजनीति यों का विवरण निम्न है।

राजकुमारी अमृत कौर

·        राजकुमारी अमृत कौर का जन्म 2 फरवरी 1989 को लखनऊ में हुआ था उनका संबंध कपूरथला के शाही परिवार से था।

·        वर्ष 1952 में उन्होंने महसूस संसदीय क्षेत्र में लोकसभा चुनाव जीता तथा देश की पहली केंद्रीय मंत्री स्वास्थ्य मंत्री बनी उनका निधन 2 अक्टूबर 1964 को हुआ।

यशवंत सिंह परमार

·        यशवंत सिंह परमार का जन्म सिरमौर जिले के बाग थान गांव में 4 अगस्त 1986 को हुआ था वह ऑल इंडिया स्टेट पीपुल्स कांफ्रेंस में कई वर्षों तक अध्यक्ष रहे।

·        वर्ष 1948 से 1950 तक परमार हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष रहे वर्ष 1951 - 52 के विधानसभा चुनाव में जीतने के बाद उन्हें अध्याय एक दल का नेता चुना गया और वे राज्य के पहले मुख्यमंत्री बने।

·        वे चार बार मुख्यमंत्री बने और 2 मई 1981 को उनका निधन हो गया।

ठाकुर सिंह नेगी

·        इनका जन्म 5 सितंबर 1919 को शौग किन्नौर में हुआ था वर्ष 1996 में प्रदेश के मुख्य सचिव के पद से रिटायर हुए।

·        यह तीन बार विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए तथा विधानसभा अध्यक्ष वर्ष 1990-  92 में रहे इन की प्रसिद्ध कृति सेड्यूल टाइप आफ हिमाचल प्रदेश है।

विद्या स्टोक्स

·        विकास तो एक प्रसिद्ध कांग्रेसी हैं उनका जन्म 8 दिसंबर 1927 को शिमला जिले के कोर्ट गढ़ गांव में हुआ था उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा प्राप्त की।

·        बे 1982 1985 में विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए वर्ष 1985 में हिमाचल प्रदेश की पहली महिला विधानसभा अध्यक्ष के रूप में चुने गई।

वीरभद्र सिंह

·        वीरभद्र सिंह का जन्म 23 जून 1934 को शिमला में हुआ था।

·        बे पांच बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे हैं पहली बार उन्होंने वर्ष 1983 में मुख्यमंत्री का पदभार ग्रहण किया उसके बाद वर्ष 1985 से 1993, 2003, 2012 में भी वे हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने उन्होंने यू पी ए सरकार ने केंद्रीय मंत्री के रूप में भी कार्य किया है।

शांता कुमार

·        13 सितंबर 1934 को शांता कुमार का जन्म कांगड़ा जिले के गढ़ जुमला में हुआ था।

·        उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय से उच्च शिक्षा प्राप्त की 17 वर्ष की आयु में वे राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ से जुड़ गए।

·        वर्ष 1964 में शांताकुमार कांगड़ा जिला परिषद के अध्यक्ष बने वर्ष 1972 में पहली बार हिमाचल प्रदेश विधानसभा के लिए निर्वाचित हुए यह 1977 में पहली बार मुख्यमंत्री बने वर्ष 1990 में दूसरी बार हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री बने।

·        अटल बिहारी वाजपेई की कैबिनेट में उन्हें केंद्रीय मंत्री बनाया गया वे एक अच्छे लेखक भी है उन्होंने कई उपन्यास तथा कहानी संग्रह भी लिखे हैं जैसे देश भक्ति स्वामी विवेकानंद, लज्जो, कैदी, हिमाचल का लाल छाया, मृगतृष्णा, मन में गीत आदि।

प्रेम कुमार धूमल

·        धूमल जी का जन्म 10 अप्रैल 1950 को हमीरपुर जिले के समीर पुर गांव में हुआ था पंजाब विश्वविद्यालय से शिक्षा प्राप्त करके के बाद उन्होंने जालंधर के दोआबा कॉलेज में लेक्चरर की नौकरी की वर्ष 1977 में उन्होंने राजनीति में प्रवेश किया वर्ष 1989 तथा 1991 में लोकसभा के लिए निर्वाचित हुए वर्ष 1998 में वे पहली बार राज्य के मुख्यमंत्री बने 2007 में वे पुनः मुख्यमंत्री बने।

·        तो दोस्तों यह थे हमारे हिमाचल प्रदेश के कुछ प्रमुख व्यक्तियों का व्यक्तित्व।

Previous
Next Post »